शीर्षक: खुदीराम बोस: युवा क्रांतिकारी

8
शीर्षक: खुदीराम बोस: युवा क्रांतिकारी

 

भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के निडर क्रांतिकारी और शहीद खुदीराम बोस का जन्म 3 दिसंबर, 1889 को हबीबपुर, बंगाल प्रेसीडेंसी (अब पश्चिम बंगाल, भारत) में हुआ था। उनका छोटा लेकिन महत्वपूर्ण जीवन औपनिवेशिक उत्पीड़न के खिलाफ लड़ाई में युवाओं के साहस और संकल्प का एक प्रेरणादायक वसीयतनामा बना हुआ है।

खुदीराम छोटी उम्र से ही स्वामी विवेकानन्द और श्री अरबिंदो जैसे आध्यात्मिक नेताओं द्वारा प्रचारित देशभक्ति और स्वतंत्रता सिद्धांतों से काफी प्रभावित थे। वह जल्द ही जुगांतर समूह में सक्रिय रूप से शामिल हो गए, एक क्रांतिकारी समूह जो भारत को ब्रिटेन से मुक्त कराने के लिए काम कर रहा था।

जब खुदीराम बोस और उनके साथी प्रफुल्ल चाकी को महज 18 साल की उम्र में भारतीय राष्ट्रवादियों के प्रति क्रूर व्यवहार के लिए जाने जाने वाले ब्रिटिश न्यायाधीश किंग्सफोर्ड की हत्या करने का काम सौंपा गया, तो वह प्रसिद्ध हो गए। 30 अप्रैल, 1908 की रात को खुदीराम और प्रफुल्ल ने बिहार के मुजफ्फरपुर में हत्या को अंजाम देने का प्रयास किया। लेकिन उनकी योजना विफल हो गई, दुर्घटनावश दो ब्रिटिश महिलाओं की मौत हो गई।

खुदीराम बोस परिणामों को जानते हुए भी भारतीय स्वतंत्रता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता पर दृढ़ रहे। उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और उन पर जल्दबाजी में मुकदमा चलाया गया, जहां उन्होंने असाधारण साहस और गरिमा के साथ काम किया। खुदीराम बोस, जो केवल 18 वर्ष के थे, को 11 अगस्त, 1908 को फाँसी की सज़ा सुनाई गई।

खुदीराम बोस के बलिदान ने भारत को झकझोर दिया और कई अन्य लोगों को स्वतंत्रता के लिए लड़ने के लिए प्रेरित किया। विपरीत परिस्थितियों में उनके साहस और स्वतंत्रता के प्रति अटूट प्रतिबद्धता ने भारतीय लोगों की प्रशंसा और श्रद्धा जीती।

खुदीराम बोस की विरासत उनकी मृत्यु के बाद भी क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता सेनानियों की नई पीढ़ियों को प्रेरित करती रहती है। उनकी शहादत अन्याय और उत्पीड़न के खिलाफ लड़ाई में अटूट युवा भावना का प्रतिनिधित्व करती है।

खुदीराम बोस का नाम भारतीय इतिहास में बलिदान और साहस के प्रतीक के रूप में याद किया जाता है। उनका जीवन एक अनुस्मारक है कि न्याय और स्वतंत्रता को आगे बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण प्रयास करने में उम्र कोई बाधा नहीं है। जब भारत अपना स्वतंत्रता दिवस मना रहा है तब भी खुदीराम बोस की स्मृति जीवित है। वह उन लोगों के लिए आशा और प्रेरणा का स्रोत हैं जो बेहतर, अधिक न्यायसंगत दुनिया के लिए काम करना जारी रखते हैं।

Previous articleशीर्षक: सुकदेव थापर: भारत की आज़ादी की लड़ाई में एक दृढ़ आधार
Next articleशीर्षक: लाला लाजपत राय: पंजाब का शेर
Ashok Kumar Gupta
KnowledgeAdda.Org On this website, we share all the information related to Blogging, SEO, Internet,Affiliate Program, Make Money Online and Technology with you, here you will get the solutions of all the Problems related to internet and technology to get the information of our new post Or Any Query About any Product just Comment At Below .