How electricity is made from coal in Hindi | बिजली, कोयले से कैसे बनायीं जाती है

81

How electricity is made from coal in Hindi | बिजली, कोयले से कैसे बनायीं जाती है।-देश के Thermal Plants इन दिनों कोयले की कमी (Coal Crisis) से जूझ रहे हैं. मीडिया में ऐसी खबरें आ रही हैं कि कई Plants में कुछ ही दिन का कोयले का Stock बचा हुआ है, ऐसे में आशंका है कि कोयले की कमी के चलते देश में बिजली (Electricity) संकट गहरा सकता है, केंद्र और राज्य सरकारें हालात को नियंत्रित करने में जुटी हैं. कोयले के संकट को लेकर हंगामा तो खूब बरपा हुआ है लेकिन ये बात बहुत कम जानते हैं कि कोयले से बिजली (Electricity) कैसे बनती है और देश में पर्याप्त भंडार (Coal Mines) होने के बावजूद कोयले का संकट कैसे पैदा हो गया है तो आइए समझते हैं-

कैसे बनती है कोयले से बिजली (How Electricity is generated from Coal full Process)-

कोयले से बिजली (Electricity) बनाने के लिए देश में जगह-जगह थर्मल प्लांट (Thermal Plant) लगे हैं, बता दें कि सबसे पहले कोयले की खदानों से कोयला (Coal) निकाला जाता है, इसके बाद ये कोयला (Coal) रेलगाड़ियों (Trains) की मदद से Thermal Plants पहुंचता है, इन Thermal Plants में Coal Field होता है, जहां Goods train से निकालकर कोयला इकट्ठा किया जाता है, इसके बाद एक मशीन की मदद से कोल फील्ड से यह कोयला क्रशर मशीन (Crusher Machine) तक पहुंचाया जाता है, इस क्रशर मशीन में कोयला को तोड़कर बारीक़ (Convert in small pieces) कर दिया जाता है, इस क्रशर मशीन (Crusher Machine) से निकलने के बाद कोयला दूसरी क्रशर मशीन (Crusher Machine) में पहुंचता है, जहां यह कोयला चूर्ण (Coal Powder) की तरह बारीक पीसा जाता है|

इसके बाद इस कोयले के चूर्ण को भट्टी नुमा बॉयलर (Boiler) में डाला जाता है, जहां से इस चूर्ण में से हल्के कण आग में जलकर राख (Ash) के रूप में ऊपर उठते हैं और भारी कण नीचे गिर जाते हैं, नीचे गिरे कणों को सीमेंट फैक्ट्रियों को दे दिया जाता है, जिससे सीमेंट बनता है, वहीं ऊपर उठे कोयले के धुआं भट्टी के ऊपर बने पानी के छोटे-छोटे पाइप से टकराता है, जिससे पानी से भरे ये छोटे-छोटे पाइप गर्म हो जाते हैं और इससे भाप बनती है|

एक पाइप के जरिए ये भाप बड़े-बड़े टरबाइन (Turbine) तक जाती है, जिसके बाद भाप की शक्ति से ये टरबाइन (Turbine) तेजी से घूमते हैं और इनके घूमने से बिजली बनती है|

कोयले की कमी की क्या वजह है | Reason behind this Coal crisis-

हमारे देश में कोयले के पर्याप्त भंडार हैं लेकिन हमारे देश में पाए जाने वाले कोयले की Quality (Coal Quality) उतनी बेहतर नहीं है, जितनी इंडोनेशिया (Indonesia) और दक्षिण अफ्रीका (South Africa) में पाए जाने वाले कोयले की होती है, इसके चलते हमारे देश में पाए जाने वाले कोयले से प्रदूषण भी काफी होता है, ऐसे में हम विदेशों से कोयले का आयात भी करते हैं, चूंकि इन दिनों कोयले की कीमत काफी बढ़ी हुई है, इसलिए कोयले का आयात (Import) भी प्रभावित हुआ है|

इसके अलावा कोरोना महामारी (COVID-19) के चलते कोयले का उत्पादन भी कम हुआ था, इससे भी सप्लाई प्रभावित हुई, वहीं कोरोना महामारी के बाद अर्थव्यवस्था (Economy) में तेजी आई है, जिसके चलते बिजली की खपत (Electricity consumption) बढ़ी है, बिजली की खपत बढ़ने के कारण भी कोयले का संकट पैदा हुआ है, कुछ कोयला खदानों में बारिश के चलते पानी भी भर गया था, इसके चलते कोयला गीला होने के कारण उसका ठीक तरह से पीसने (Grinding) करने पर चूर्ण नहीं बन पा रहा है, इससे भी कोयले से बिजली उत्पादन प्रभावित हुआ है|

भारत में लोकप्रिय ऊर्जा कंपनियां विद्युत उत्पादन | Popular Energy Companies in India In Power Generation-

1. एनटीपीसी लिमिटेड| NTPC Limited-

एनटीपीसी (NTPC) भारत में भारत की सबसे बड़ी बिजली कंपनी है, जिसकी जड़ें भारत में बिजली के विकास में तेजी लाने के लिए 1975 में लगाई गई थीं। तब से इसने बिजली उत्पादन व्यवसाय की संपूर्ण मूल्य श्रृंखला में उपस्थिति के साथ खुद को प्रमुख बिजली कंपनी के रूप में स्थापित किया है। जीवाश्म ईंधन से, इसने पनबिजली, परमाणु और नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों के माध्यम से बिजली पैदा करने में कदम रखा है। यह प्रयास ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करके कार्बन फुटप्रिंट को कम करने में प्रमुख भूमिका निभाएगा।
• कुल बिक्री: 95,742 करोड़ रुपये
• स्थापित क्षमता: 55,126 मेगावाट
• बाजार हिस्सेदारी: 15%
एनटीपीसी भारत की सबसे बड़ी बिजली कंपनियों में से एक है। अपने मुख्य व्यवसाय को मजबूत करने के लिए, निगम ने परामर्श, बिजली व्यापार, बिजली पेशेवरों के प्रशिक्षण, ग्रामीण विद्युतीकरण, राख के उपयोग और कोयला खनन के क्षेत्रों में भी विविधता लाई है।

2. टाटा पावर कंपनी लिमिटेड | TATA Power Company Ltd-

टाटा पावर, अपनी सहायक कंपनियों और संयुक्त संस्थाओं के साथ, पारंपरिक और नवीकरणीय ऊर्जा और अगली पीढ़ी के ग्राहक समाधानों की संपूर्ण बिजली मूल्य श्रृंखला में मौजूद है। 10,957 मेगावाट की परिचालन उत्पादन क्षमता के साथ टाटा पावर की अखिल भारतीय उपस्थिति है। टाटा पावर कंपनी लिमिटेड का स्वामित्व टाटा समूह के पास है
टाटा पावर सौर ऊर्जा कंपनी के पास 1388 मेगावाट सौर उत्पादन क्षमता [भारत में सौर ऊर्जा कंपनियां] का एक मजबूत पोर्टफोलियो है। इसने हाल ही में आंध्र प्रदेश के अनंतपुर सोलर पार्क में 100 मेगावाट का सौर संयंत्र चालू किया है।
इसने 2017 में पावागड़ा, कर्नाटक में 150 मेगावाट, महाराष्ट्र के पलासवाड़ी में 30 मेगावाट और चरंका, गुजरात में 25 मेगावाट चालू किया है। भारत में शीर्ष अक्षय ऊर्जा कंपनियों में से एक है।
• कुल बिक्री: रु 30,022 करोड़
• स्थापित क्षमता: 10,957 मेगावाट।
• बाजार हिस्सेदारी: 3.2%
टाटा पावर की 1161 मेगावाट की स्थापित क्षमता है और सात राज्यों महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु, कर्नाटक राजस्थान, आंध्र प्रदेश और मध्य प्रदेश में फैले संयंत्र भारत में पवन ऊर्जा उत्पादन को बढ़ावा देने में अग्रणी हैं। कंपनी भारत में शीर्ष अक्षय ऊर्जा कंपनियों में से एक है।

3. अदानी पावर लिमिटेड | Adani Power Ltd-

अदानी पावर लिमिटेड भारत की शीर्ष 10 बिजली कंपनियों की सूची में से एक है। अदानी पावर लिमिटेड (एपीएल), विविध अदानी समूह का एक हिस्सा, भारत में सबसे बड़ा निजी ताप विद्युत उत्पादक है। भारत की सबसे बड़ी अक्षय ऊर्जा कंपनियों में से एक।
कंपनी के पास सौर ऊर्जा के 40 मेगावाट के अलावा, गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक और राजस्थान में चार बिजली संयंत्रों में फैले 10,440 मेगावाट थर्मल पावर (प्रस्तावित अधिग्रहण के पूरा होने पर 12,410 मेगावाट तक बढ़ने की उम्मीद) की बिजली उत्पादन क्षमता है। गुजरात में परियोजना
• कुल बिक्री: रु 28,013 करोड़
• स्थापित क्षमता: 10,440 मेगावाट
• बाजार हिस्सेदारी: 3%
अदाणी पावर क्योटो प्रोटोकॉल के क्लीन डेवलपमेंट मैकेनिज्म (सीडीएम) के तहत पंजीकृत कोयला आधारित सुपरक्रिटिकल थर्मल पावर प्रोजेक्ट स्थापित करने वाली दुनिया की पहली कंपनी है। दक्षता के मामले में कंपनी भारत में सबसे अच्छी सौर ऊर्जा कंपनी है।

4. टोरेंट पावर लिमिटेड| Torent Power Ltd-

टोरेंट पावर भारतीय बिजली क्षेत्र में अग्रणी ब्रांडों में से एक है, जिसे रु। 21000 करोड़ टोरेंट ग्रुप। यह एक एकीकृत बिजली उपयोगिता है और भारत में सबसे बड़े निजी क्षेत्र के खिलाड़ियों में से एक है, जो बिजली उत्पादन, पारेषण, वितरण और विनिर्माण और बिजली केबल्स की आपूर्ति में रुचि रखते हैं। टॉरेंट पावर ने उदारीकरण से बहुत पहले बिजली क्षेत्र में संभावनाओं का पूर्वाभास किया था, जब उसने सत्ता संभाली और एक बीमार पावर केबल कंपनी महेंद्र इलेक्ट्रिकल्स को सफलतापूर्वक बदल दिया, जिसका नाम बदलकर ‘टोरेंट केबल्स लिमिटेड’ कर दिया गया (अब 1 अप्रैल 2014 से टोरेंट पावर लिमिटेड के साथ विलय हो गया)। )
• कुल बिक्री: 13,359 करोड़ रुपये
• स्थापित क्षमता: 3600 मेगावाट
• बाजार हिस्सेदारी: 1%
टॉरेंट के सत्ता में प्रवेश के उच्च बिंदु, हालांकि, भारत की दो सबसे पुरानी उपयोगिताओं – द सूरत इलेक्ट्रिसिटी कंपनी लिमिटेड और द अहमदाबाद इलेक्ट्रिसिटी कंपनी लिमिटेड का अधिग्रहण थे। टॉरेंट ने उन्हें परिचालन क्षमता और विश्वसनीयता के मामले में पहली दर की बिजली उपयोगिताओं में बदल दिया। बिजली आपूर्ति का।
टोरेंट अत्यधिक कुशल उत्पादन संपत्ति के साथ देश में सबसे अच्छी तरह से चलने वाली बिजली उपयोगिताओं में शुमार है। इसमें 3600 मेगावाट की कुल उत्पादन क्षमता के साथ कोयला आधारित, गैस आधारित और नवीकरणीय बिजली संयंत्रों का एक पोर्टफोलियो है। इसमें 1111 मेगावाट के कुल निर्माणाधीन पवन ऊर्जा संयंत्र भी हैं। कंपनी के गैस-आधारित संयंत्रों में अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी और इन-बिल्ट दक्षता-बढ़ाने वाली डिज़ाइन सुविधाओं के साथ अधिक पर्यावरणीय मूल्य हैं।

5. जेएसडब्ल्यू एनर्जी लिमिटेड | JSW Energy Ltd.-

JSW Energy भारत की प्रमुख बिजली कंपनियों में से एक है, संचालन के प्रबंधन, सामाजिक और आर्थिक लाभ बढ़ाने, पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने और अत्याधुनिक नवाचारों को नियोजित करने से, JSW Energy ने शीर्ष पर अपना रास्ता बना लिया है। यह भारत की शीर्ष सौर ऊर्जा कंपनी में से एक है।
JSW एनर्जी 4,541 MW (थर्मल – 3,140 MW, हाइडल – 1,391 MW और सोलर – 10 MW) संचालित करती है। पारदर्शी संचालन, कड़े कॉरपोरेट गवर्नेंस मानदंड और एक स्पष्ट दृष्टि के साथ जेएसडब्ल्यू एनर्जी बिजली क्षेत्र में बेंचमार्क स्थापित कर रही है। कंपनी भारत की शीर्ष सौर ऊर्जा कंपनियों में से एक है।
• कुल बिक्री: 9,189 करोड़ रुपये
• स्थापित क्षमता: 4,541 मेगावाट
• बाजार हिस्सेदारी: 1.4%
कंपनी की उपस्थिति कई भारतीय राज्यों में फैली हुई है और इसमें दक्षिण अफ्रीका में प्राकृतिक संसाधन कंपनियों में हिस्सेदारी शामिल है। विस्तार के लिए कंपनी का रणनीतिक दृष्टिकोण, भौगोलिक स्थानों में विविधता सुनिश्चित करना, ईंधन के स्रोत और बिजली लेने की व्यवस्था, व्यवसाय को जोखिम से बचाने में मदद करता है। पिछले 6 वर्षों में, JSW एनर्जी ने बिजली उत्पादन क्षमता को 260MW से बढ़ाकर 4,541 MW कर दिया है।
6. एसजेवीएन लिमिटेड
एसजेवीएन लिमिटेड, एक मिनी रत्न, विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के प्रशासनिक नियंत्रण में है। भारत सरकार, भारत सरकार (GOI) और हिमाचल प्रदेश सरकार (GOHP) के संयुक्त उद्यम के रूप में 1988 में निगमित की गई थी। एसजेवीएन अब एक सूचीबद्ध कंपनी है जिसके पास सरकार के पास 61.05 प्रतिशत शेयरधारक हैं। भारत सरकार के साथ 26.85%। हिमाचल प्रदेश का और शेष 12.10% जनता के साथ।
• कुल बिक्री: 2,959 करोड़ रुपये
• स्थापित क्षमता: 1,959.6 मेगावाट
• बाजार हिस्सेदारी: 1% से नीचे

एकल परियोजना और एकल राज्य संचालन (अर्थात हिमाचल प्रदेश में भारत का सबसे बड़ा 1500 मेगावाट नाथपा झाकरी हाइड्रो पावर स्टेशन) के साथ शुरुआत करते हुए, कंपनी ने पवन और सौर ऊर्जा सहित कुल 2015.2 मेगावाट की स्थापित क्षमता की पांच परियोजनाएं शुरू की हैं। एसजेवीएन वर्तमान में पड़ोसी देशों के अलावा हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, महाराष्ट्र और गुजरात में बिजली परियोजनाओं को लागू कर रहा है। नेपाल और भूटान।

7. अदानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड | Adani Green Energy Ltd.-

अदानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (AGEL) भारत की सबसे बड़ी नवीकरणीय कंपनियों में से एक है, जिसका वर्तमान परियोजना पोर्टफोलियो (Portfolio) 5,290 मेगावाट (megawatt)  है। एजीईएल अदानी समूह का हिस्सा है, कंपनी उपयोगिता-पैमाने पर ग्रिड से जुड़े सौर और पवन कृषि परियोजनाओं का विकास, निर्माण, स्वामित्व, संचालन और रखरखाव करती है।
उत्पन्न बिजली की आपूर्ति केंद्र और राज्य सरकार की संस्थाओं और सरकार समर्थित निगमों को की जाती है। कंपनी सौर और पवन जैसे ऊर्जा के नवीकरणीय स्रोतों द्वारा संचालित बिजली संयंत्रों का निर्माण, स्वामित्व और संचालन करती है। अदानी ग्रीन एनर्जी भारत की शीर्ष अक्षय ऊर्जा कंपनियों में से एक है।
• कुल बिक्री: 2,486 करोड़ रुपये
• स्थापित क्षमता: 2,220 मेगावाट
• बाजार हिस्सेदारी: 1% से नीचे
केंद्र और राज्य सरकार की संस्थाओं के साथ 25 वर्षों के दीर्घकालिक बिजली खरीद समझौतों (पीपीए) के पीछे, एजीईएल ने अपनी क्षमताओं का लाभ उठाया है और 11 भारतीय राज्यों में अपनी उपस्थिति का विस्तार किया है। कंपनी अपनी परियोजनाओं में नवीनतम तकनीकों को तैनात करती है। 46 परिचालन परियोजनाओं और निर्माणाधीन 18 परियोजनाओं के पोर्टफोलियो के साथ, एजीईएल भारत को अपनी अक्षय ऊर्जा यात्रा पर चला रहा है।

यह भी पढ़े –

MP Board Class X and XII 2022 results released from today | MP Board  कक्षा दसवीं (10) और बारहवीं (12) 2022 का परिणाम आज से जारी  

Use Live View on Google Maps

जैसे की दोस्तों यदि आप यह पढ़ रहे है तो मै उम्मीद करता हु, ऊपर दिए गए सारे दिए हुए इनफार्मेशन को तो पढ़ा ही होगा यदि आपको मेरी यह पोस्ट अच्छी लगी होगी तो इस पोस्ट को दोस्तों और करीबी लोगो के साथ व्हाट्सएप ग्रुप और फेसबुक में शेयर करें। इस वेबसाइट पर हम आपके समस्याओ के समाधान से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध कराते हैं। तथा नए आवेदन की जानकारी देते रहते है, अगर आप भविस्य में भी हमारे साइट से जुड़े रहना चाहते हो तो गूगल सर्च बॉक्स में सर्च करें या आगे Click करे KnowledgeAdda.Org  धन्यवाद!

Previous articleMP Board Class X and XII 2022 results released from today | MP Board  कक्षा दसवीं (10) और बारहवीं (12) 2022 का परिणाम आज से जारी  
Next articleSouth East Central Railway Recruitment 2022 Apply For 1033 Trade Apprentice Vacancy, Notice Released | दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे भर्ती 2022 1033 ट्रेड अपरेंटिस रिक्ति नोटिस जारी के लिए आवेदन करें